Home > बस यूँ ही > अब हिंदी में भी आती हैं चेन इमेल

अब हिंदी में भी आती हैं चेन इमेल

  अंग्रेजी में इस तरह की चेन इमेल तो सभी को आती होंगी जिसमें कोई सूचना, मजेदार फोटो या चुटकुले होते हैं। हिंदी की एक चेन इमेल आज मुझे प्राप्त हुई। यह बात साबित करती है कि हिंदी टाइपिंग और हिंदी इंटरनेट पर बहुत तेजी से प्रचलन में आ रही है। यहां यह स्पष्ट करदूं कि यह मेल मुझे किसी हिंदी चिट्ठाकार ने नहीं भेजी है और इसमें शामिल सैंकड़ों इमेल पतों से यह पता चलता है कि मेल काफी लंबा सफर तय करके आयी है।
मेरी पिछली पोस्ट से आपको पता चल गया होगा कि अब मोबाइल से हिंदी चिट्ठा पोस्ट करना भी संभव हो गया है। इसके बारे में विस्तार से अगली पोस्ट में लिखा जायेगा। तब तक आप चेन मेल में मिले इस चुटकुले का मजा लीजिये:

एक दिन राजू के पापा एक रोबोट ले कर आये.

वह रोबोट झूठ पकड़ सकता था और झूठ बोलने वाले को गाल पर खीँच कर चांटा मार देता था.

आज राजू स्कूल से घर देर से आया था… पापा ने पूछा “घर लौटने में देर क्यो हो गयी?”

“आज हमारी एक्स्ट्रा क्लासेस थी” राजू ने जवाब दिया…

रोबोट अचानक अपनी जगह से उछला और जमकर राजू के गाल पर चांटा मार दिया.

पापा हंसकर बोले, “ये रोबोट हर झूठ को पकड़ सकता है और झूठ बोलने वाले को चांटा भी मारता है. अब सच क्या है यह बताओ… कहाँ गए थे?”

“में फिल्म देखने गया था” राजू बोला

“कौन सी फिल्म?” पापा ने कड़ककर पूछा

“हनुमान”
चटाक… अभी राजू की बात पूरी भी नहीं हुई थी की उसके गाल पर रोबोट ने एक जोर का चांटा मारा.

“कौन सी फिल्म?” पापा ने फिर पूछा

“कातिल जवानी.”

पापा ग़ुस्से में बोले “शर्म आनी चाहिए तुम्हे. जब में तुम्हारे जितना था तब ऐसी हरकत नहीं किया करता था.”

चटाक… रोबोट ने एक चांटा मारा… इस बार पापा के गाल पर.

यह सुनते ही मम्मी किचन में से आते हुए बोली “आख़िर तुम्हारा बेटा है ना… झूठ तो बोलेगा ही”

अब मम्मी की बारी थी… चटाक…

About these ads
  1. सितम्बर 28, 2007 को 1:35 अपराह्न पर | #1

    हे हे

  2. सितम्बर 28, 2007 को 1:46 अपराह्न पर | #2

    हिन्दी में चेनमेल तो नहीं, पर हिन्दी में पाक्षिक न्यूजलेटर का एकाध प्रयास पहले भी किया जा चुका है और जाहिर है, पाठकों व स्पांसरों की घोर कमी के कारण तीन अंक निकलने के बाद वो बंद हो गया :(

  3. सितम्बर 28, 2007 को 4:23 अपराह्न पर | #3

    ही ही ही, क्या चुटकुला है, मज़ा आ गया!! :D

  4. सितम्बर 28, 2007 को 8:51 अपराह्न पर | #4

    बोले तो हमाम में सब नंगे थे। :)

  5. सितम्बर 29, 2007 को 3:32 पूर्वाह्न पर | #5

    :) hihihi
    hahaha
    majja aagya

  6. सितम्बर 29, 2007 को 12:33 अपराह्न पर | #6

    मजेदार चुटकुला :)

  7. अक्टूबर 13, 2007 को 4:01 अपराह्न पर | #7

    i dont have a hindi software pls.send me

  8. मार्च 22, 2010 को 12:29 पूर्वाह्न पर | #8

    वहा कया चुटकला है v good

  1. No trackbacks yet.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

%d bloggers like this: