Home > Uncategorized > अंग्रेजी हिंदी अनुवाद पिटारा से

अंग्रेजी हिंदी अनुवाद पिटारा से

google translation

 

 

गूगल के हिंदी से अंग्रेजी और अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद के औजार को पिटारा में जोड़ दिया गया है। आप किसी भी साइट पर हों, एक क्लिक से उसे हिंदी से अंग्रेजी अथवा अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद कर सकते हैं।

 

आपको बस टूल मीनू में अनुवाद पर क्लिक कर अपना ऑप्शन चुनना है।

 

आपने यदि किसी अनुच्छेद (पैरा) का अनुवाद करना है तो बस उसे चुन कर कापी करलें, इसके बाद अनुवाद ऑप्शन पर क्लिक करें, क्लिपबोर्ड से आपका अनुच्छेद अनुवादित हो जायेगा।

About these ads
Categories: Uncategorized
  1. मई 8, 2008 को 8:12 पूर्वाह्न पर | #1

    अरे वाह, बहुत बढ़िया…हिन्दी पर काम करते हैं तो यह सुनिये और हिस्सा बनिये:

    ————————-

    आप हिन्दी में लिखते हैं. अच्छा लगता है. मेरी शुभकामनाऐं आपके साथ हैं इस निवेदन के साथ कि नये लोगों को जोड़ें, पुरानों को प्रोत्साहित करें-यही हिन्दी चिट्ठाजगत की सच्ची सेवा है.

    एक नया हिन्दी चिट्ठा भी शुरु करवायें तो मुझ पर और अनेकों पर आपका अहसान कहलायेगा.

    इन्तजार करता हूँ कि कौन सा शुरु करवाया. उसे एग्रीगेटर पर लाना मेरी जिम्मेदारी मान लें यदि वह सामाजिक एवं एग्रीगेटर के मापदण्ड पर खरा उतरता है.

    यह वाली टिप्पणी भी एक अभियान है. इस टिप्पणी को आगे बढ़ा कर इस अभियान में शामिल हों. शुभकामनाऐं.

  2. मई 19, 2008 को 5:26 अपराह्न पर | #2

    है प्रदूषण की ज़रूरी रोक थाम
    डा. अहमद अली बर्क़ी आज़मी

    है प्रदूषण की ज़रूरी रोक थाम
    सब का जीना कर दिया जिसने हराम
    आधुनिक युग का यह एक अभिशाप है
    जिस पे आवश्यक लगाना है लगाम
    है कयोटो सन्धि बिल्कुल निष्क्रिय
    है ज़रूरी जिसका करना एहतेराम
    अब बडे शहरोँ मेँ जीना है कठिन
    ज़हर का हम पी रहे हैँ एक जाम
    है प्रदूषित हर जगह वातावरण
    काम हो जए न हम सब का तमाम
    बढ़ रहा है दिन बदिन ओज़ोन होल
    है ज़ुबाँ पर हर किसी की जिसका नाम
    है गलोबल वार्मिंग का सब को भय
    लेती है प्राकृकि से जो इंतेक़ाम
    आज मायंमार है इसका शिकार
    कल न जाने हो कहाँ यह बेलगाम
    इसका जारी हर जगह प्रकोप है
    हो नगर अहमद अली या हो ग्राम

  3. मई 31, 2010 को 2:04 अपराह्न पर | #3

    you and me

  4. vikas
    अप्रैल 27, 2011 को 10:41 पूर्वाह्न पर | #4

    mare ungli mai chot lagi hai

  5. PRAVIN KUMAR
    मई 2, 2011 को 10:42 पूर्वाह्न पर | #5

    सरकार को पेङ बचाने के लिए सख्त प्रक्रिया अपनानी चाहिए!

  6. ravi
    जुलाई 16, 2011 को 3:21 अपराह्न पर | #6

    sir pleas translate this sentence from hindi to english

  1. No trackbacks yet.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

%d bloggers like this: